Guzare Zamane Ki Yadgar Filmen (P.B.)

₹120.00

₹150.00

rating
  • Ex Tax:₹120.00

यह पुस्तक उन नामचीन चलचित्रों को याद करते हुए उनसे जुड़े विभिन्न कलाकारों को एक श्रद्धांजलि है जिन्हें आज हम सब भुला चुके हैं और आज के पत्रकार केवल सफ’ल फिल्मों की ओर ही ध्यान देते हैं जिनके साथ शायद उनका कुछ लाभ भी जुड़ा होता है । मैंने इन भूले–बिसरे ..

यह पुस्तक उन नामचीन चलचित्रों को याद करते हुए उनसे जुड़े विभिन्न कलाकारों को एक श्रद्धांजलि है जिन्हें आज हम सब भुला चुके हैं और आज के पत्रकार केवल सफ’ल फिल्मों की ओर ही ध्यान देते हैं जिनके साथ शायद उनका कुछ लाभ भी जुड़ा होता है । मैंने इन भूले–बिसरे चलचित्रों व उनसे जुड़े कलाकारों के वर्णन में बहुत–सी छुपी हुई और लुप्त होती हुई जानकारियों को प्रस्तुत करने का प्रयास किया है । इस पुस्तक को पढ़ते समय शायद आपको यह कहने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ‘यादे माज़ी अज़ाब है यारब छीन ले मुझसे हाफ्”ज़ा मेरा’ ।
हिन्दी सिनेमा साहित्य में, ज़्यादातर लेखन फिल्मी इतिहास के बारे में और उससे भी ज़्यादा फिल्मी हस्तियों के बारे में हुआ है । सितारों, संगीतकारों, गीतकारों, गायकों, और अनाम/बेनाम कलकारों के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है । फिल्मी संगीत और गीतों की भी बहुत चर्चा हुई है । इतना साहित्य होते हुए भी, खुद फिल्मों के बारे में बहुत कुछ नहीं लिखा गया है ।
µइसी पुस्तक की भूमिका से


Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good