Srajansheelta Ka Sankat

₹280.00

₹350.00

rating
  • Ex Tax:₹280.00

भारतेन्दु और लाला श्रीनिवास दास ने ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में ‘राजनीतिक और आर्थिक मनुष्य’ का साक्षात्कार कराया था जो गहरे संकट को देख सकता था और अनुभव कर सकता था । (वह मनुष्य ‘मध्ययुगीन मनुष्य’ से भिन्न और आधुनिक था) । मुक्तिबोध ने ‘आधुनिकतावादी–अस्ति..

भारतेन्दु और लाला श्रीनिवास दास ने ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में ‘राजनीतिक और आर्थिक मनुष्य’ का साक्षात्कार कराया था जो गहरे संकट को देख सकता था और अनुभव कर सकता था । (वह मनुष्य ‘मध्ययुगीन मनुष्य’ से भिन्न और आधुनिक था) । मुक्तिबोध ने ‘आधुनिकतावादी–अस्तित्ववादी–व्यक्तिवादी मनुष्य’ और श्रम– परिभाषित ‘ऐतिहासिक सामाजिक मनुष्य’ की संघर्ष गाथा में गहरे संकट की सृजनशील सम्भावना को देख लिया था । ये दोनों मनुष्य विचारधारात्मक थे ।
मुक्तिबोध की काव्य चेतना में भारतेन्दु के सृजनशील संकट के वंशज–भाव का विकास था । मुक्तिबोध के लिए भारतेन्दु इतिहास के सिलसिले में आधुनिकता के विशिष्ट और गहरे प्रसंग थे । अज्ञेय के लिए भारतेन्दु सिर्फ रेफरेंस थे ।
मुक्तिबोध की कविता में नयी कविता और प्रगतिशील कविता के मनुष्य की संश्लिष्ट धारणा (‘व्यक्ति मनुष्य’ और ‘सामाजिक मनुष्य’) थी । नयी कविता आन्दोलन और प्रगतिशील कविता आन्दोलन दोनों को एक भूमिकाµविद्रोहµमें देखा जा सकता था । स्वरूप की भिन्नता के बावजूद प्रक्रिया लगभग समान थी । अज्ञेय और मुक्तिबोध दोनों ने रचना प्रक्रिया पर विचार किया और उसे अधिक मूल्यवान पाया था । यह समान भूमिका मेरे विचार की समस्या थी । सन् 2011 में जब अज्ञेय, शमशेर, नागार्जुन और केदारनाथ अग्रवाल की जन्मशती, समवेत रूप से प्रयाग संग्रहालय में आयोजित की गई थी तब मैंने इनकी समान भूमिका का उल्लेख किया था । ये चारों कवि विद्रोही थे । विद्रोह, प्रक्रिया थी, परिणाम या उत्पाद नहीं । सम्भवत% इसीलिए ये चारों कवि भाव और निरूपण पद्धति को अपर्याप्त पाते हैं । इतिहास के आधुनिक परिप्रेक्ष्य और प्रक्रिया के विद्रोही विन्यास के कारण इन सभी का सम्वेदनात्मक अन्तर्जगत सेकुलर था । इनका सम्मिलित विरोध, ‘पुराणवाद’, ‘मध्ययुगीनवाद’ और ‘गुलाम निष्ठावाद’ से था । सभी को सचेत होना था कि वे ‘परम मूल्य’ के लोभ से बचे रहें । आगे चलकर अज्ञेय जी ने ‘व्यक्ति स्वातन्त्र्य’ को परम मूल्य मान लिया था ।

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good