Kah Do Na

₹100.00

₹125.00

rating
  • Ex Tax:₹100.00

जि़ंदगी कई बार नए रास्ते आपके लिए अचानक खोल देती है । ऐसा लगता है कि उस रास्ते पर आपकी यात्रा पहले से नियत थी । ऐसा क्यों होता है इस पर मतों में भिन्नता हो सकती है । लेकिन यह जब जिसके साथ होता है उसे इसे समझने में थोड़ा वक्त लगता है । कुछ ऐसा ही हमारे..

जि़ंदगी कई बार नए रास्ते आपके लिए अचानक खोल देती है । ऐसा लगता है कि उस रास्ते पर आपकी यात्रा पहले से नियत थी । ऐसा क्यों होता है इस पर मतों में भिन्नता हो सकती है । लेकिन यह जब जिसके साथ होता है उसे इसे समझने में थोड़ा वक्त लगता है । कुछ ऐसा ही हमारे साथ भी चैदह साल पहले हुआ । मुझे आश्चर्य होता था कि किसी एक विषय पर इतने सारे गीत मुंबईया फिल्मों में लिखे जाते है, लेकिन शायद ही कभी दो गीत सुनने में एक जैसे लगते हैं । गीत लिखना मुझे बहुत ही कठिन लगता था । लेकिन एक दिन अचानक हमसे गीत लिखा गया । उस दिन पता चला कि गीत लिखना कितना आसान है । यह भी समझ आया कि गीत–कविता हृदय की चीज है । दिल, हृदय जो भी कहिए इसे, धड़कता लगातार है यह, और हर नई धड़कन कुछ नया कहती है । तो दिल से निकली कविता तो हर बार नई होगी न । इस संग्रह में आप को चार स्वाद मिलेंगे । पहला वह जो आजकल बंबईया फिल्मों में लिखा जा रहा है । नए शब्द, नई स्पीड के साथ आपको कुछ अच्छा फील देंगे । दूसरा स्वाद वह है जो आपको कुछ चखा चखा सा लगेगा । जो कुछ भी पहले अच्छा आपने सुना है, उन्हीं कुछ शब्दों को लेकर नए अंदाज़ में आगे बढ़ते हुये आज के दौर में कुछ नया कहने की कोशिश है । उम्मीद है आप को स्वादिष्ट लगेगा । इस भाग को हमने नाम ‘सिलसिला’ दिया है । जगजीत सिंह साहब जब से गज़ल को छोड़ गए, तब से गज़ल वहीं ठहरी हुई है । ‘शेर ओ शायरी’ में हमने कोशिश की है कि आज के शब्द, आज की सोच को साथ लेकर गज़ल कही जाये, जो पढ़ने पर आज की स्पीड का अहसास कराये । आखिरी स्वाद सूफि’याना का है जहाँ आपको मुहब्बत को एक्सप्रेस करने के नए शब्द, नए ख्वाब दिखेंगे । ये इश्क ख़्ाुदा, आपके हमसफर से रूबरू कराएगा । --नीतीश्वर

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good