Mamma Ka Muamma (PB)

₹76.00

₹95.00

rating
  • Ex Tax:₹76.00
  • Product Code:ISBN: 978-9382553618
  • Availability:In Stock

इस किताब के केंद्र में एक बच्चा "कीनू" है जो दिन रात सवाल पूछता है और एक मां है जिसे धैर्य के साथ लगातार बच्चे के प्रश्नों का जवाब देना होता है। मां को दो बातों का ध्यान हमेशा रखना पड़ता है - एक तो यह कि अगर एक ही विषय पर अलग-अलग दिन कुछ पूछा जाये तो ..

इस किताब के केंद्र में एक बच्चा "कीनू" है जो दिन रात सवाल पूछता है और एक मां है जिसे धैर्य के साथ लगातार बच्चे के प्रश्नों का जवाब देना होता है। मां को दो बातों का ध्यान हमेशा रखना पड़ता है - एक तो यह कि अगर एक ही विषय पर अलग-अलग दिन कुछ पूछा जाये तो उत्तर विरोधाभाषी नहीं हों। और दूसरा खतरा ये कि कहीं मिलने वाले जवाब से बच्चे के दिमाग में तुरंत तीन-चार सवाल और न आ जाए। चूंकि बच्चों के लिए सारी दुनियां ही नयी होती हैए उनकी जिज्ञासाओं का विस्तार भी चींटी से ले कर चांद तक होता है। साधारणतया हर बच्चे के मन में इतनी जिज्ञासाएं होती हैं कि बड़े लोगों के लिए उनका समाधान देना मुश्किल हो जाता है। प्राकृतिक रूप से उनके इन अनंत सवालों का शिकार होती हैं माएंए जिन पर वे सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं। इस क्रम में कई बार उनकी मासूमियत स्थिति को बेहद मजेदार बना देती है। अब तक मौजूद किसी भी साहित्य से यह किताब इस मायने में अनोखी है कि यह छोटी-छोटी मनोरंजक कहानियों के माध्यम से बच्चों की अवलोकन यऑब्जरवेशनद्ध क्षमताए तर्क-शक्ति तथा शब्द-संयोजन के विकास का विवेचन करती है। इस लिहाज से यह पुस्तक मनोरंजक होने के साथ-साथ बाल मनोविज्ञान और बाल सामाजिकी के अध्ययन के लिए भी महत्वपूर्ण है।

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good