Kalakar Ka Dekhana (PB)

₹125.00
rating
  • Ex Tax:₹125.00
  • Product Code:B078Y6WRSC
  • Availability:In Stock

आप जो रच रहे हैं, उसके लिए एकाग्रता जरूरी है । एकाग्रता नहीं तो आप रच ही नहीं सकते । रचनाकर्म ध्यान की ऐसी स्थिति है, ऐसा समय है, जिसमें आप अलौकिक महसूस करते हैं । आप 'स्वभाव' में स्थित होते हैं । और इसे आप ईश्वर या प्रकृति का नाम दे देते हैं क्योंकि..

आप जो रच रहे हैं, उसके लिए एकाग्रता जरूरी है । एकाग्रता नहीं तो आप रच ही नहीं सकते । रचनाकर्म ध्यान की ऐसी स्थिति है, ऐसा समय है, जिसमें आप अलौकिक महसूस करते हैं । आप 'स्वभाव' में स्थित होते हैं । और इसे आप ईश्वर या प्रकृति का नाम दे देते हैं क्योंकि आपकी एक बनी-बनायी दुनिया है जिसमें ईश्वर आपके पहले से मौजूद है । और वह एक धारणा भी है, जिसे झूठा साबित करने के लिए आपके पास कोई तर्क नहीं है । लेकिन आपकी दिलचस्पी इन सब में न होकर अपने काम और रचनात्मक 

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good