Ek Aur Duniya Hoti

₹155.00

₹195.00

rating
  • Ex Tax:₹155.00
  • Product Code:ISBN : 978-93-85450-88-4
  • Availability:In Stock

‘‘…एक बार उसने हँसकर कहा था मुझसे ‘मुझे जानना क्या इतना आसान है, कुछ मेरे साथ रहो, घूमो–पिफरो, दुनिया देखो, तब आप ही जानने लगोगे । और तभी मैंने इस धारा में अपनी डोंगी उतारी थी । छोटी–सी । अमृत को जानने के लिए विष चखकर देखा । मन तभी से मतवाला है । कुछ..

‘‘…एक बार उसने हँसकर कहा था मुझसे ‘मुझे जानना क्या इतना आसान है, कुछ मेरे साथ रहो, घूमो–पिफरो, दुनिया देखो, तब आप ही जानने लगोगे । और तभी मैंने इस धारा में अपनी डोंगी उतारी थी । छोटी–सी । अमृत को जानने के लिए विष चखकर देखा । मन तभी से मतवाला है । कुछ रुचता नहीं । जैसे कुछ चले जाने का संताप दग्ध करता रहता है । जी में आता है कि सब उल्टी–पुल्टी चीजें ठीक कर दूँ, लेकिन कैसे ? कैसे? जाना कहीं है, चला कहीं जा रहा हूँ। यह दुनिया कुछ और ही साँचे में ढलती जा रही है ।’’

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good