Samay Se Samvaad

Showing 1 to 11 of 11 (1 Pages)

Gandhiwad Rahe na Rahe (PB)

₹125.00

मनुष्य के लिए प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग अपरिहार्य है लेकिन गांधीजी के लिए संसाधनों की आपूर्ति कुछ वैसी ही होनी चाहिए जैसे मधुमक्खियाँ मधु संचय करती हैं । फूलों से रस लेने के क्रम में मधुमक्खियाँ फूलों को कोई हानि नहीं पहुँचाती, बल्कि परागण की प्रक्..

SAMAY SE SAMVAD: Hindi Cinema Ki Yatra (...

₹125.00

आज का हिन्दी सिनेमा किसी पहचान की मोहताज नहीं है । हालाँकि यह पहचान इसे किसी झटके में नहीं मिली । हाल के वर्षों में इसने साबित किया है कि वह सिर्फ मनोरंजन और रुपया बटोरने के लिए नहीं है बल्कि उसमें भारतीयता की पूरी झलक साफ दिखाई पड़ती है । किसे मालूम ..

Showing 1 to 11 of 11 (1 Pages)