Naatak | Play

Showing 1 to 3 of 3 (1 Pages)

Ghar Wapsi

₹80.00

पिछले कुछ वर्षों से ऐसा संयोग रहा कि दलित मुद्दे मुझसे इस कदर टकराते रहे कि एक के बाद एक कई नाटक क्रम में लिख डाले । बीच-बीच में कुछ और सब्जेक्ट पर भी लिखा पर लोगों का ध्यान दलित सवाल पर ही अटका रहाए जिसके आधार पर मेरे बारे कहना शुरू कर दिया कि मैं अ..

Sukhia Mar Gaya Bhookh Se

₹85.00

सिनेमा से तो किसान गायब हो ही गया है, नाटक में भी यही हाल है । जिस तरह साहित्य का शहरीकरण हो रहा है, किसान लगातार हाशिये पर जा रहा है । कुछ अपवाद को छोड़ दे तो अभी भी इस ज्वंलत मुद्दे पर कोई उत्कृष्ट कविता, कहानी या नाटक नहीं लिखा गया है । यह जानने की..

Showing 1 to 3 of 3 (1 Pages)