Kavita | Poem

Showing 1 to 12 of 23 (2 Pages)
sale!-20%
Aawaz Ke Station

Aawaz Ke Station

₹80.00

₹100.00

आवाज के स्टेशनवो पहला कागज़ मुझे आज तक नही मिलाजिस पर मैंने सबसे पहले कुछ लिखा थाना वो उम्र मिली, जिस उम्र में लिखा थाना वो हाथ मिले, जिन हाथों से लिखा थाअभी तक वो भाव, वो मनोदशा भी नही मिलीजिनमे वह लिखा गया होगाशायद वह कागज़ था ही नहीवह स्लेट या तख्ती..

sale!-20%
Dehari Ka Deeya (Paperback)
sale!-20%
new
Ek Bhari Puri Duniya Ki Talash Mein
sale!-20%
Gili Mitti ka londa (PB)
sale!-20%
Kah Do Na

Kah Do Na

₹100.00

₹125.00

जि़ंदगी कई बार नए रास्ते आपके लिए अचानक खोल देती है । ऐसा लगता है कि उस रास्ते पर आपकी यात्रा पहले से नियत थी । ऐसा क्यों होता है इस पर मतों में भिन्नता हो सकती है । लेकिन यह जब जिसके साथ होता है उसे इसे समझने में थोड़ा वक्त लगता है । कुछ ऐसा ही हमारे..

sale!-20%
Khandit Manav Ki Kabrgah

Khandit Manav Ki Kabrgah

₹120.00

₹150.00

पहली बात तो अपनी असलियत न स्वीकार करना कायरता का सूचक है, दूसरा कोई भी बात जितने माध्यमों से घुमा–घुमाकर कही जाए उतने ही हिस्सों में हृदय विभाजित होता है, व्यक्तित्व खंडित होता हैंय एक तरह से अखण्ड आदमी खोजना नामुमकिन है, फिर खंडित आदमी द्वारा किया ग..

sale!-20%
Khushnuma Veerangi (P.B.)

Khushnuma Veerangi (P.B.)

₹120.00

₹150.00

भारत के प्रख्यात दार्शनिक आचार्य रजनीश (ओशो) से किसी लेखक ने एक बार पूछा कि किसी भी किताब का आरंभ और अंत सबसे कठिन हिस्सा क्यूँ होता है इसके लिए क्या करना चाहिए, ओशो ने जवाब दिया कि यह कठिन इसलिए है क्योंकि लेखक को अंदाज़ा ही नही होता कि कहाँ से आरंभ ..

sale!-20%
Mai Tumhara Aaina (HB)

Mai Tumhara Aaina (HB)

₹240.00

₹300.00

एक बार फिर इन चंद रचनाओं के साथ आपके सामने हूँ । मेरे पास एक आइना है वैसा ही जैसा आपके पास है । हम सभी इस आइने में अपने समय की सच्चाइयों को रीझना-बूझना चाहते हैं । दूसरे शब्दों में कहें तो हम जीवन को अपने-अपने आइने में परिभाषित करना चाहते हैं----- अप..

Showing 1 to 12 of 23 (2 Pages)