Aalochna | आलोचना

Showing 1 to 12 of 91 (8 Pages)
sale!-20%
Aatmkatha Aur Stri

Aatmkatha Aur Stri

₹260.00

₹325.00

..

Adivasi Aur Hindi Upanyas (PB)

₹160.00

जब सरकार को लगा कि संप सभा के धूणी धाम जागृति का केन्द्र बनते जा रहे हैं और आदिवासियों के मध्य फैल रही जागृति का मतलब सिर्फ उनकी आंतरिक समस्याओं के प्रति जागरुकता तक सीमित न होकर राज के शोषण के खिलाफ चेतना फैलाने तक है तो उसने दमन की नीति अपना ली । ज..

sale!-20%
Alka

Alka

₹280.00

₹350.00

कविवर पण्डित रामरतनजी अवस्थी अनुभवसिद्ध रचनाकार हैं । साहित्य की अनेक विधाओं में उनका कार्य है । ‘अलका’ शीर्षक से उन्होंने मेघदूत का छायानुवाद किया है, वह भी गद्यगीत शैली में । इस छायानुवाद को पढ़ते हुए यदि हम अवस्थीजी द्वारा प्राक्कथन में उठाये गये क..

sale!-20%
new
Baat Bolegee

Baat Bolegee

₹280.00

₹350.00

मनुष्य ने आग के साथ–साथ भाषा और संवाद के रास्ते भी खोजे । कोई समाज या समुदाय जब भी संकट में होता है, वह संवाद के नये आयामों की तलाश करता है । संवाद दरअसल संस्कृति और समाज के बीच एक पुल की तरह है, जहाँ द्विआयामी यात्रा की जा सकती है । कर्मेंदु शिशिर क..

sale!-20%
Bandi Jeevan

Bandi Jeevan

₹240.00

₹300.00

‘बनारस षड्यंत्र केस’ उत्तर भारत का प्रथम क्रांतिकारी प्रयास था जिसमें क्रांतिकारी शचीन्द्रनाथ सान्याल 26 जून 1915 को गिरफ्तार कर लिए गए और 14 फरवरी 1916 को आजीवन काला पानी की सजा के साथ ही उनकी सारी सम्पत्ति जब्त कर ली गई । कुछ समय उन्हें बनारस के का..

sale!-20%
new
Bangal Ke Baaul

Bangal Ke Baaul

₹160.00

₹200.00

ईश्वर तक पहुँचने के अनेक मार्ग वेदों, शास्त्रों, व धर्मों में पुरातन काल से बताए जा रहे हैं। उनमें से प्रमुख हैंµकर्म, ज्ञान व पे्रम। कर्म का पथ वाह्य है, ज्ञान का पथ कर्म की अपेक्षा अधिक अंतरंग है तथा पे्रम का पथ स्वाभाविक रूप से सर्वाधिक अंतरंग व श..

sale!-20%
Bhartiya Musalman (PB)

Bhartiya Musalman (PB)

₹120.00

₹150.00

..

sale!-20%
Bhartiya Natya Parampara Aur Aadhunikta

Bhartiya Natya Parampara Aur Aadhunikta

₹235.00

₹295.00

परम्परा, प्रयोग और शास्त्र का परस्पर सम्बन्ध क्या है और क्यों है ? और फिर सामयिक संदर्भों में उसकी प्रासंगिकता क्या है ?यह प्रश्न बड़ा स्वाभाविक और युक्तिसंगत है । विशेष रूप से 21वीं सदी के भारतीय युवा रंगकर्मियों के लिए तो यह प्रश्न सबसे अधिक महत्त्व..

Showing 1 to 12 of 91 (8 Pages)