New Books

Showing 1 to 12 of 161 (14 Pages)
sale!-38%
1001 Ithihas Prashnotari
sale!-38%
1001 Samanye Gyan Prashnotari
sale!-20%
1001Gadit Prashnotari

1001Gadit Prashnotari

₹100.00

₹125.00

..

sale!-20%
Aadha Ped Aadhe Hum (Hardcover)
sale!-20%
Aawaz Ke Station

Aawaz Ke Station

₹80.00

₹100.00

आवाज के स्टेशनवो पहला कागज़ मुझे आज तक नही मिलाजिस पर मैंने सबसे पहले कुछ लिखा थाना वो उम्र मिली, जिस उम्र में लिखा थाना वो हाथ मिले, जिन हाथों से लिखा थाअभी तक वो भाव, वो मनोदशा भी नही मिलीजिनमे वह लिखा गया होगाशायद वह कागज़ था ही नहीवह स्लेट या तख्ती..

Adivasi Aur Hindi Upanyas (PB)

₹160.00

जब सरकार को लगा कि संप सभा के धूणी धाम जागृति का केन्द्र बनते जा रहे हैं और आदिवासियों के मध्य फैल रही जागृति का मतलब सिर्फ उनकी आंतरिक समस्याओं के प्रति जागरुकता तक सीमित न होकर राज के शोषण के खिलाफ चेतना फैलाने तक है तो उसने दमन की नीति अपना ली । ज..

sale!-20%
Air Strike @ Balakot

Air Strike @ Balakot

₹280.00

₹350.00

..

sale!-20%
Alka

Alka

₹280.00

₹350.00

कविवर पण्डित रामरतनजी अवस्थी अनुभवसिद्ध रचनाकार हैं । साहित्य की अनेक विधाओं में उनका कार्य है । ‘अलका’ शीर्षक से उन्होंने मेघदूत का छायानुवाद किया है, वह भी गद्यगीत शैली में । इस छायानुवाद को पढ़ते हुए यदि हम अवस्थीजी द्वारा प्राक्कथन में उठाये गये क..

Amola (PB)

₹295.00

त्रिलोचन जितने आत्मनिष्ठ और रूपनिष्ठ कवि हैं उतने ही जनपदनिष्ठ कवि । बल्कि उनके यहाँ आत्मनिष्ठा और जनपदनिष्ठा अनिवार्यत% सम्पुंजित सी हैं % एक में दूसरा और तीसरा बरबस अन्त/र्वनित होते हैं । यह त्रिलोचन को एक अनोखा मूर्धन्य बनाती है । उनकी कविता को पढ़..

sale!-20%
new
Apritam Hindi Geet Shatak

Apritam Hindi Geet Shatak

₹180.00

₹225.00

वस्तुतः प्रेम ही गीत का मूल स्वर है और यही तत्व गीत को उसका आकार और स्वरूप देता है । प्रेम की यह अभिव्यक्ति प्रेयसी के प्रति, प्रकृति के प्रति और अपने देश के प्रति अनेकानेक रूपों में मुखरित होती संकलन के गीतों में झलकती है । हमारे कोमलतम भाव प्रणय गी..

sale!-20%
Baat Bolegee

Baat Bolegee

₹280.00

₹350.00

मनुष्य ने आग के साथ–साथ भाषा और संवाद के रास्ते भी खोजे । कोई समाज या समुदाय जब भी संकट में होता है, वह संवाद के नये आयामों की तलाश करता है । संवाद दरअसल संस्कृति और समाज के बीच एक पुल की तरह है, जहाँ द्विआयामी यात्रा की जा सकती है । कर्मेंदु शिशिर क..

Showing 1 to 12 of 161 (14 Pages)