Hindi Books

Showing 1 to 12 of 176 (15 Pages)

Kaafila Sath Aur Safar Tanha (HB)

₹250.00

वंदना शुक्ल के दूसरे कथा–संकलन क’ाफि’ला, साथ और सफ’र तनहा की कहानियाँ हमारे समय के यथार्थ का विस्तार प्रस्तुत करती हैं । स्मृतिहीनता के इस भयावह दौर में ये कहानियाँ स्मृतियों की राह पकड़ अपने पाठकों को वर्तमान की यात्रा पर ले चलती हैं । इन कहानियों मे..

101 Shikshaprad Kahaniya (PB)

₹85.00

आज एक जमाना याद आता है । शाम को जब अंधेरा घिरने को होता, बच्चे अपना खेल समाप्त कर घर आते, घर आकर खाना खाते और फिर शुरू होता कहानी सुनने–सुनाने का सिलसिला । लगभग सभी बच्चे अपने नाना–नानी, दादा–दादी से कहानी सुनने की जिद करते और सच तो यह है कि कहानी सु..

sale!-13%
30 Shades of Bela (PB)

30 Shades of Bela (PB)

₹105.00

₹120.00

हम सबके भीतर कोई लेखक या चिंतक छुपा है, बस आवश्यकता है किसी जयंती और उसकी नयी सोच की, जो नए लोगों को प्रोत्साहित करे । जयंती रंगनाथन ने कुछ दोस्तों के साथ फेसबुक पर एक अनोखा प्रयोग किया और रोज एक नया लेखक बेला की कहानी को आगे बढ़ाने लगा । तीस लेखकों न..

sale!-14%
546 Seat Ki Stri (PB)

546 Seat Ki Stri (PB)

₹120.00

₹140.00

..

sale!-20%
Aalochana Ka Swadesh (HB)

Adivasi Aur Hindi Upanyas (PB)

₹160.00

जब सरकार को लगा कि संप सभा के धूणी धाम जागृति का केन्द्र बनते जा रहे हैं और आदिवासियों के मध्य फैल रही जागृति का मतलब सिर्फ उनकी आंतरिक समस्याओं के प्रति जागरुकता तक सीमित न होकर राज के शोषण के खिलाफ चेतना फैलाने तक है तो उसने दमन की नीति अपना ली । ज..

Adivasi Chintan Ki Bhumika (PB)

₹125.00

भारत सरकार की नई आर्थिक नीतियों ने आदिवासी शोषण-उत्पीड़न की प्रक्रिया तेज की, इसलिए इसका प्रतिरोध भी मुखर हुआ । शोषण और उसके प्रतिरोध का स्वरूप राष्ट्रीय था, इसलिए प्रतिरोध से निकली रचनात्मक उर्जा का स्वरूप भी राष्ट्रीय था । आदिवासी अस्मिता और अस्तित्..

Amola (PB)

₹295.00

त्रिलोचन जितने आत्मनिष्ठ और रूपनिष्ठ कवि हैं उतने ही जनपदनिष्ठ कवि । बल्कि उनके यहाँ आत्मनिष्ठा और जनपदनिष्ठा अनिवार्यत% सम्पुंजित सी हैं % एक में दूसरा और तीसरा बरबस अन्त/र्वनित होते हैं । यह त्रिलोचन को एक अनोखा मूर्धन्य बनाती है । उनकी कविता को पढ़..

Showing 1 to 12 of 176 (15 Pages)